Karwa Chauth Mehndi Designs 2022: करवा चौथ पर पति के नाम लगाएं ये खूबसूरत डिजाइन की मेहंदी

Google News (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

Karwa Chauth Mehndi Designs 2022: करवा चौथ को प्रेम, त्याग एवं समर्पण का प्रतीक माना जाता है क्योंकि आज के दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु की मनोकामना में निर्जला व्रत रखती हैं तथा हिंदू धर्म में Karwa Chauth का विशेष महत्व माना गया है | हिंदू पंचांग के अनुसार करवा चौथ का त्योहार प्रत्येक वर्ष कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को पूर्ण विधि-विधान के साथ मनाया जाता है तथा करवा चौथ के दिन सुहागिन महिलाएं सुबह जल्दी उठकर स्नान करके सोलह सिंगार करती हैं एवं निर्जला व्रत का संकल्प लेती हैं और आज के दिन महिलाएं अपने पति की दीर्घायु के लिए पूरे दिन बिन पानी व्रत रखती हैं तथा अनाज का एक तिनका भी अपने गले से नहीं उतरने देती और यह उनके लिए अपने आराध्य / पति के लिए सराहनीय समर्पण एवं प्रेम का प्रतीक कहा जा सकता है |

हम आपको बता दें कि इस वर्ष करवा चौथ का विशेष महत्व माना गया है क्योंकि 13 अक्टूबर 2022, गुरुवार (करवा चौथ) को एक विशेष मुहूर्त बना है और यह मुहूर्त पूरे 13 साल बाद बन रहा है क्योंकि बृहस्पति बुद्ध एवं सूर्य अपनी सही स्थिति पर विराजमान / विद्यमान होकर प्रभावी ढंग से अपना लाभ प्रदान करेंगे , अतः Karwa Chauth के दिन निर्जला व्रत रखने वाली महिलाएं चंद्र दर्शन करके अपनी पति की दीर्घायु की कामना करते हुए करवा चौथ की व्रत को पूर्ण कर सकती हैं | Karwa Chauth का व्रत रखने वाली सुहागिन महिलाओं को सूचित कर दें कि 13 अक्टूबर रात 01:59 से कार्तिक कृष्ण पक्ष चतुर्थी तिथि प्रारंभ होगी तथा इस तिथि का समापन 14 अक्टूबर को 3:08 पर होगा अतः इसकी बीच आप अपनी Karwa Chauth की पूजा को पूरे विधि विधान के साथ संपन्न करें !

Happy Karwa Chauth Wishes, Status

Google News (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

हमारे भारत देश के कुछ राज्यों में Karwa Chauth के त्यौहार को अधिक महत्व बता दी गई है जिसमें पंजाब, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, मध्य प्रदेश, राजस्थान आदि जैसे राज्य शामिल है तथा करवा चौथ के दिन सुहागिन महिलाएं चंद्र दर्शन के समय अपनी थाली में सिंदूर, अक्षत, कुमकुम, रोली, चावल, मिठाइयां एवं दीप प्रज्वलित कर, मां गौरी एवं गणेश की पूजा अर्चना करें एवं छन्नी से चंद्र दर्शन करते हुए चंद्रमा को अर्ध देकर करवा चौथ की कथा सुने और यदि आप Karwa Chauth से जुड़े कई महत्वपूर्ण तथ्यों एवं चंद्र दर्शन की समयावधि की विशेष महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे साथ ध्यान पूर्वक बने रहने का प्रयास करें !

करवा चौथ अवलोकन (Karwa Chauth – Overview)

1लेख विवरण करवा चौथ 2022
2त्यौहार का नामकरवा चौथ
3विशेषताभारतीय सुहागिन महिलाओं का विशेष पर्व
4श्रेणीन्यूज़
5महत्वताभारतीय सुहागिन महिलाओं के पति की दीर्घायु के लिए व्रत
6धर्म हिंदू धर्म
7तिथिकार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी (हिंदू कैलेंडर के अनुसार)
8दिनांक13 अक्टूबर 2022, गुरुवार
9अमृत काल मुहूर्तशाम 4:08 से शाम 5:50 तक
10अभिजीत मुहूर्तसुबह 11:21 से दोपहर 2:07 तक
11चंद्रोदय का समय रात 8:09 पर
12स्थानभारत
13विशेष महत्वपंजाब हरियाणा उत्तर प्रदेश राजस्थान उत्तराखंड एवं मध्य प्रदेश आदि !

करवा चौथ व्रत के लिए सामग्रियां (Ingredients for Karwa Chauth Vrat)

  • देवी मां की फोटो
  • करवा
  • दीपक
  • छलनी
  • कलश
  • थाली
  • पुष्प
  • भोग
  • मिठाइयां
  • जल आदि |
Karwa Chauth Mehndi Designs 2022

करवा चौथ विवरण (Karwa Chauth – Details)

  • भारत देश की हिंदू धर्म की महिलाओं के बीच करवा चौथ का विशेष महत्व माना गया है |
  • हिंदू धर्म की सुहागिन महिलाएं करवा चौथ के दिन अपने पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखती हैं |
  • करवा चौथ के दिन सुहागिन महिलाएं निर्जला व्रत रखती हैं |
  • करवा चौथ के दिन सुहागिन महिलाएं सुबह उठकर स्नान करके पूजा अर्चना कर व्रत रखने का संकल्प लेती हैं |
  • करवा चौथ के दिन सुहागिन महिलाएं अपना निर्जला व्रत चंद्रोदय के समय पूर्ण करती हैं |
  • करवा चौथ के पावन पर्व पर सुहागिन महिलाएं चंद्रोदय के समय चंद्र दर्शन करके पूजा अर्चना कर अपने व्रत को सफल करती हैं |
  • हिंदू पंचांग के अनुसार करवा चौथ का पावन पर्व कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है |
  • इस वर्ष करवा चौथ का पर्व 13 अक्टूबर 2022, गुरुवार को है तथा देश की महिलाएं आज के दिन निर्जला व्रत रखेंगी |
  • हम आपको बता दें कि अमृत काल मुहूर्त शाम 4:08 से शाम 5:50 तक एवं अभिजीत मुहूर्त सुबह 11:21 से दोपहर 2:07 तक रहेगा |
  • इस वर्ष करवा चौथ के दिन चंद्र उदय का समय रात्रि 8:09 से प्रारंभ है तथा देश के विशेष स्थानों पर इसमें बदलाव देखने को मिलेंगे |
  • करवा चौथ का व्रत रखने वाली महिलाओं को बता दें कि इस वर्ष करवा चौथ का विशेष महत्व माना गया है क्योंकि यह मुहूर्त पूरे 13 वर्षों बाद बना है इसीलिए आप अपने पूर्ण समर्पण के साथ करवा चौथ का व्रत रखकर पूरे विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करें |

Karwa Chauth Mehndi Designs

karwa chauth mehndi design 2022
karwa chauth mehndi design 2022
karwa chauth mehndi design 2022

करवा चौथ पर चंद्रोदय समय (Moonrise Timings on Karwa Chauth)

हम आपको बता दें कि इस वर्ष करवा चौथ का पावन पर्व 13 अक्टूबर 2022, गुरुवार को मनाया जाएगा तथा आज के दिन देश की सुहागिन महिलाएं अपने पति की दीर्घायु के लिए व्रत रख कर पूजा अर्चना करेंगी और अपने व्रत को पूरे विधि विधान के साथ चंद्रोदय के साथ पूर्ण करेंगी तथा चंद्रोदय का समय विभिन्न स्थानों पर अलग-अलग रह सकता है इसीलिए चंद्रोदय का समय नीचे दी गई तालिका में विद्यमान है :-

क्र.सं. शहर का नामसमयावधि
1दिल्ली   8 बजकर 09 मिनट पर
2नोएडा         8 बजकर 08 मिनट पर
3मुंबई              8 बजकर 48 मिनट पर
4जयपुर            8 बजकर 18 मिनट पर
5देहरादून         8 बजकर 02 मिनट पर
6लखनऊ        7 बजकर 59 मिनट पर
7शिमला            8 बजकर 03 मिनट पर
8गांधीनगर         8 बजकर 51 मिनट पर
9इंदौर              8 बजकर 27 मिनट पर
10भोपाल             8 बजकर 21 मिनट पर
11अहमदाबाद      8 बजकर 41 मिनट पर
12कोलकाता        7 बजकर 37 मिनट पर
13पटना               7 बजकर 44 मिनट पर
14प्रयागराज          7 बजकर 57 मिनट पर
15कानपुर            8 बजकर 02 मिनट पर
16चंडीगढ़          8 बजकर 06 मिनट पर
17लुधियाना           8 बजकर 10 मिनट पर
18जम्मू              8 बजकर 08 मिनट पर
19बंगलूरू            8 बजकर 40 मिनट पर
20असम               7 बजकर 11 मिनट पर
karwa chauth mehndi design 2022

करवा चौथ के लिए मंत्र (Mantra for Karwa Chauth)

  • ॐ गणेशाय नमः
  • ॐ नमः शिवाय
  • ॐ शिवायै नमः
  • ॐ षण्मुखाय नमः
  • ॐ सोमाय नमः

Karwa Chauth – FAQs

करवा चौथ क्या है ?

हिंदू धर्म में करवा चौथ का विशेष महत्व माना गया है क्योंकि आज के दिन भारतीय सुहागिन महिलाएं अपने पति की दीर्घायु की कामना करते हुए निर्जला व्रत रखती हैं तथा पूरे विधि विधान के साथ पूजा-अर्चना करती हैं |

करवा चौथ कब है ?

इस वर्ष करवा चौथ का पावन पर्व 13 अक्टूबर 2022, गुरुवार को है |

हिंदू पंचांग के अनुसार करवा चौथ का पावन पर्व कब मनाया जाता है ?

हिंदू पंचांग के आधार पर हम आपको बता दें कि करवा चौथ का पर्व कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है तथा आज के दिन चंद्रोदय के समय हिंदू सुहागिन महिलाएं अपने व्रत को पूर्ण करती हैं |

Leave a Comment